दिवाली के दिन झाड़ू को क्यों पूजते है ? लक्ष्मी माता को प्रसन्न करे

नमस्ते दोस्तों आज हम इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे दिवाली के दिन झाड़ू से संबंधित कुछ मान्यताएं और यह कैसे धन-संपत्ति पाने में आपकी सहायता करता है। भारतवर्ष में अभी भी लोग बहुत सारी प्राचीन कथाएं और परंपराओं को अपने साथ रखे हैं। और इसका पालन कर रहे हैं। या करते हैं हिंदुओं के बड़े त्योहारों में से दीपावली एक ऐसा बड़ा त्यौहार है, जो जिसका इंतजार हर किसी को रहता है। और दीपावली अपने साथ-साथ बहुत सारी खुशियां रोनक लेकर आती है।

दीपावली में लोग बहुत उत्सुक होते हैं। और अपने घरों की साफ-सफाई करते है। घरों को रंग रंगोली करके सुशोभित करते हैं। घरों में कंदील लाइटिंग लगाते हैं। बाजार से नए कपड़े खरीदते हैं। दिवाली के 5 दिनों में भगवान की पूजा अर्चना करते हैं। और मां लक्ष्मी की गणपति जी की पूजा करते हैं। इसी प्रकार लक्ष्मी पूजन के दिन लोग घर में इस्तेमाल होने वाले झाड़ू की पूजा करते हैं। लोगों की मान्यता है कि झाड़ू की पूजा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है। और वह सदैव अपने घर में वास करते हैं।

यह भी माना जाता है कि झाड़ू को पैर लगाने से या पैर लग जाने पर मां लक्ष्मी रुष्ट हो जाते हैं। कई कई लोग जब भी झाड़ू को गलती से या किसी कारणवश पेर लग जाता है, तो उसका पैर पड़ते हैं। और मां लक्ष्मी से माफी मांगते हैं कि इस गलती को क्षमा कर दें। दिवाली के समय लक्ष्मी पूजन के दिन झाड़ू की पूजा करते हैं। दिवाली में झाड़ू खरीदना क्यों होता है? और उससे संबंधित प्राचीन कहानियां हम आज इस लेख माध्यम से आपको बताएँगे दिवाली के दिन झाड़ू खरीदना शुभ होता है।

ऐसा माना जाता है की दिवाली के दिन झाड़ू खरीद के पूजा करने के बाद दूसरे दिन इसका इस्तेमाल करने से घर में सुख, संपत्ति, शांति बनी रहती है। और इससे कई सारे वास्तु दोष भी दूर होते हैं। हिंदू धर्म के धार्मिक मान्यताओं के अनुसार यह मानना है। कि अगर आप झाड़ू का अपमान करते हो तो आप मां लक्ष्मी का अपमान करते हो।

Table of Contents

मां लक्ष्मी को कैसे प्रसन्न करें झाड़ू के सही प्रयोग और पूजा अर्चना कैसे करें ?

झाड़ू तो सबके घर में रहती हैं। यह साफ सफाई करने के लिए हर कोई इस्तेमाल करता है। शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि झाड़ू मां लक्ष्मी का ही रूप है। यह घर से कूड़ा कचरा साफ करके घर की दरिद्रता को दूर करता है। सुख समृद्धि और माता लक्ष्मी का वास होता है।

मा लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए आपको किसी भी तरह की तंत्र मंत्र या पूजा करने की जरूरत नहीं है। इसके लिए सिर्फ आपको झाड़ू से जुड़ी कुछ बातों का ध्यान रखना है। दिवाली के दिन झाड़ू खरीद के उसकी पूजा करके उसके दूसरे दिन झाड़ू का सही तरह से इस्तेमाल करना चाहिए। इससे आपके घर के वास्तु दोष दूर होते हैं। मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

दिवाली में लक्ष्मी पूजन के दिन नई खरीदी हुई झाड़ू को अच्छे से थोड़ा पानी डालकर उसे एक नए कपड़े से लिपट के मंदिर के बाहर रखकर उससे हल्दी कुमकुम से पूछ कर दीया लगाना चाहिए। जैसे हम भगवान की पूजा अर्चना करते हैं। वैसे ही हमें झाड़ू की पूजा करनी चाहिए। इससे घर में मां लक्ष्मी का वास बना रहता है और आपको संपत्ति प्राप्त होती है।

झाड़ू से संबंधित किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए जिससे कि लक्ष्मी माता नाराज ना हो :

  • झाड़ू कभी भी गंदी जगह पर नहीं रखना चाहिए। कभी भी रात को सोते समय झाड़ू को दरवाजे के पास रखें यह मान्यता है, कि ऐसा करने से सारी नकारात्मक शक्तियां दूर रहती है। और लक्ष्मी जी का आगमन होता है।
  • दिन में झाड़ू को छुपा के रखना चाहिए। कभी भी भोजन घर में झाड़ू ना रखें। इससे नुकसान होता है कभी भी दिन में झाड़ू ऐसी जगह पर ना रखे जो किसी भी आने-जाने वाले को न दीखें। दिन में झाड़ू को छुपा कर रखे।
  • रात में इसे दरवाजे के सामने रखें क्योंकि इससे नकारात्मक शक्तिया बाहर से ही लौट जाती है।
  • झाड़ू को कभी भी खड़ा करके ना रखें। इसे अपशकुन माना जाता है।
  • कभी भी झाड़ू को बेडरूम में नहीं रखना चाहिए। क्योंकि इससे घर में कलेश और वैवाहिक जीवन में मन-मुटाव आता है।
  • कभी भी पुराने झाडू को ज्यादा दिन तक घर में नहीं रखना चाहिए। ना ही झाड़ू को जलाना चाहिए
  • अगर आप नए घर में जा रहे हो तो पहले झाड़ू को ही लेकर जाएं। इससे आपकी संपत्ति मैं किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होगी। और दरिद्रता नहीं आएगी और मां लक्ष्मी हमेशा प्रसन्न रहेगी।
  • दिवाली के दिन झाड़ू जरूर खरीदें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस बात को शुभ माना गया है। और महालक्ष्मी को प्रसन्ना करने के लिए इन सारी बातों का हमेशा ध्यान रखें।
See also  दीपावली में गोवर्धन पूजा कैसे की जाती है? गोवर्धन पूजा क्यों करते है ?

मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के उपाय :

  • दिवाली के समय या किसी भी पूजा करते समय शंकु को बजाना चाहिए।.इससे घर में से सारी बुरी शक्तियां खत्म हो जाती है। और मां लक्ष्मी का सहवास बना रहता है |
  • महालक्ष्मी की पूजा करने समय इसमें आप पीली कोडिया को भी रखना चाहिए। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है।
  • श्री शंकर भगवान के मंदिर में जाकर शिवलिंग पर चावल चढ़ाने से भी धन प्राप्ति होती है। और महालक्ष्मी प्रसन्ना होती है लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि चावल खंडित ना हो वह पूरे हो।
  • दिवाली के दिन नया झाड़ू खरीदे और उसकी पूजा करके उससे पूरे घर की सफाई करें। झाड़ू का इस्तेमाल होने के बाद में दिन में उसे छुपा दीजिए।
  • दीपावली मैं लक्ष्मी पूजन के दिन थोड़ा बढ़ा दिया लगाएं और उसने तेल ज्यादा डालकर बहुत दिया जलने दे और लक्ष्मी माता की पूजा अर्चना करें।
  • लक्ष्मी पूजन के दिन महालक्ष्मी के मंत्रों को कम से कम 108 बार जप करें। इसी महालक्ष्मी हमेशा प्रसन्न रहेगी और संपत्ति का लाभ होगा।

दिवाली के दिन झाड़ू के सही प्रयोग से महालक्ष्मी को प्रसन्न :

झाड़ू से हम घर की साफ सफाई करते हैं। यह घर में स्थित कचरा नामाक नकारात्मक शक्ति एवं दरिद्रता को बाहर करती है। और घर में सुख शांति लाने का काम करती है। इसमें मां लक्ष्मी का रूप होने के कारण हम इसकी पूजा अर्चना करते हैं।

झाड़ू को कहां रखें ?

झाड़ू को कभी भी साफ सुथरी जगह पर रखें। इसे नालि या कचरे के जगह पर ना रखेंयह धार्मिक मान्यता है। कि अगर हम साइंटिफिक तौर पर देखें तो अगर हम कचरा या नाली की जगह पर झाड़ू रखेंगे तो जब भी हम साफ सफाई करेंगे तो उसमें से कीटाणु लग जाएंगे। और से बीमारियां होकर और गंदगी बढ़ेगी और दरिद्रता बढ़ेगी।

इसीलिए हमें कभी भी झाड़ू साफ जगह पर ही रखना चाहिए। झाड़ू कभी भी दक्षिण या पश्चिम में रखें। और जब भी झाड़ू का काम ना हो तो उसे छिपा कर रखे। क्योंकि यह लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है और लक्ष्मी को जैसे हम अपनी संपत्ति को छुपा कर रखते वैसे ही आपको झाड़ू को भी छुपा के रखिए।

See also  दीपावली में धनतेरस पूजा कैसे करते हैं ? धनतेरस की पूजा क्यों ?

झाड़ू कब खरीदे ?

झाड़ू को कभी कृष्ण पक्ष में खरीदना चाहिए। यानी के शुभ मुहूर्त पर ही लेना चाहिए। बिना शुभ मुहूर्त के झाड़ू को खरीदना नहीं चाहिए। झाड़ू को कभी भी शनिवार, रविवार या मंगलवार के दिन खरीदना चाहिए। यह वार झाड़ू खरीदने के लिए शुभ होते हैं। और इससे आपको संपत्ति और धन प्राप्ति में लाभ होता है।

झाड़ू से सफाई करते समय क्या ध्यान रखें ?

कभी भी अगर आप सूरज के पश्चात शाम को अगर आप अंधेरा होने पर अपने घर में झाड़ू लगाते हैं। साफ सफाई करते हैं। तो आपको कभी भी कचरा बाहर नहीं फेंकना चाहिए। क्योंकि यह अशुभ संकेत माना जाता है। और मां लक्ष्मी इससे रुष्ट होती है। इसके लिए अगर कभी भी आपको साफ सफाई करनी है। तो सूर्यास्त से पहले कर लीजिए। और यदि करना पड़े तो कचरा बाहर ना फेंके।

पुरानी झाड़ू का क्या करें ?

अगर झाड़ू पुरानी हो गई है तो उससे घर की सफाई ना करें। और उसे बदल दे पुरानी झाड़ू को भी गंदी जगह पर ना रखें। या अपने घर पर ना रखे उससे बाहर के बाहर फेंक दे पुरानी झाड़ू से अपने घर में सफाई करने से दरिद्रता और बढ़ती है। और लक्ष्मी मां का उपस्थिति भी नहीं रहती है।

झाड़ू कब नहीं लगाना चाहिए ?

कोई घर का व्यक्ति या मुखिया कोई महत्वपूर्ण काम करने के लिए बाहर गया है। तो उसके जाने के तुरंत पश्चात झाड़ू नहीं लगाना चाहिए। यह भी एक अशुभ संकेत माना जाता ह। कभी भी घर में झाड़ू से साफ सफाई हो रही है। तो उसको लांगकर नहीं जाना चाहिए। या कचरे को लांग के नहीं जाना चाहिए इससे भी मां लक्ष्मी होती है।

झाड़ू का गुप्त दान करें ?

आप किसी मंदिर में तीन झाड़ू गुप्त दान करिए। किसी शुभ दिन में यह करे । पहले आपको पहले दिन ही झाड़ू लेकर रखना चाहिए। और यह दान गुप्त स्वरूप में करिए इसका किसी को भी पता ना लगे। लक्ष्मी माता प्रसन्न होती है। और आपके घर में सदैव संपत्ति और शांति वास करती हैं।

जानिए –

दीपावली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है और इसकी कहानी क्या है ?

Leave a Comment

error: Content is protected !!