Saturday, December 10, 2022

सिझेरियन क्यो करना पडता है

जरुर पढ़े

नमस्कार दोस्तों । फ्री सिंपलीफाइड इंफॉर्मेशन वेबसाइट में आप सभी का हम स्वागत करते हैं । आज हम आपको हमारे इस आर्टिकल सिजेरियन क्यों करना पड़ता है ओर इससे जुड़ी जानकारी बताने वाले है। आप अगर मां बनने वाले है तो आपको किस प्रकार डिलीवरी करवानी है ये एक महत्व पूर्ण निर्णय है। नॉर्मल डिलीवरी को आज भी लोग ज्यादा महत्व देता है क्योंकि वो प्राकृतिक रूप से होती है।सिजेरियन डिलीवरी को सी-सेक्शन भी कहा जाता है , थोड़ी जटिल सर्जरी है और उसको थोड़ा कठिन माना गया है।

एक नियोजित सी-सेक्शन क्या है ?

सी-सेक्शन डिलीवरी सामान्य तौर पर सुरक्षित होती है, लेकिन उनमें नॉर्मल डिलीवरी से बच्चे को जन्म देने की तुलना में अधिक जोखिम होता है। इसी वज़ह से,नॉर्मल डिलीवरी की सिफारिश की जाती है। लेकिन कभी कभी सेसेरियन करना मजबूरी होती है।जैसे अगर आपका बच्चा ब्रीच (पैर नीचे एव सिर उपर की स्थिती) है और आपकी डिलीवरी तारीख के करीब आने पर स्थिति नहीं बदलता है, तो आपका डॉक्टर सिजेरियन डिलीवरी की सलाह देता है । कभी कभी स्वास्थ जोख़िम के वजह से भी सी सेक्शन करना पड़ता है। जैसे के-

  • रक्त की हानि
  • अनीमिया
  • एलर्जी
  • इन्फेक्शन
  • ब्लड क्लॉट्स

सी-सेक्शन क्यो करना पड़ता हैं ?

आपकी डिलिवरी तारीख से पहले आपके डॉक्टर द्वारा सिजेरियन डिलीवरी का समय निर्धारित किया जा सकता है। या किसी आपात स्थिति के कारण प्रसव के दौरान यह आवश्यक हो सकता है।

१.लंबे समय तक प्रसव पिडा-

लंबे समय तक लेबर पेन होना ये एक तिहाई सिजेरियन का कारण है। यह तब होता है जब माँ को 20 घंटे या उससे अधिक समय तक लेबर पेन होता है। या जो औरते जिनको दुसरी बार बच्चा हो रहा है, १४घंटे से अधिक समय के लिए लेबर पेन में होती है उनको सिजेरियन के लिए लिया जाता है।

जो बच्चे आकार से योनि के तुलना में जन्म बहुत बड़े हैं, धीमी गति से गर्भाशय का मुंह खुलना , और जो औरतें ट्विंस को जन्म देने वाली है, इन मामलों में, डॉक्टर जटिलताओं से बचने के लिए सिजेरियनकरते हैं।

२.बच्चे की असामान्य स्थिति-

एक सफल योनि जन्म के लिए, बच्चों को सर्विक्स के पास पहले सिर पर रखा जाना ज़रूरी होता है। लेकिन बच्चे कभी-कभी अपने पैर या बट को सर्विक्स की ओर रख सकते हैं, जिसे ब्रीच जन्म कहा जाता है, या पहले उनके कंधे या पक्ष की स्थिति होती है, जिसे अनुप्रस्थ(transverse) जन्म के रूप में जाना जाता है। इन मामलों में सिजेरियन डिलीवरी सबसे सुरक्षित तरीका हो सकता है, खासकर उन महिलाओं के लिए जिनके एक से ज्यादा बच्चे हैं।

३.भ्रूण संकट (fetal distress)-

यदि गर्भ में बच्चे को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल रही है, तो आपका डॉक्टर आपातकालीन सिजेरियन डिलीवरी का विकल्प चुनते है।

४.जन्म दोष-

डिलिवरी संबंधी जटिलताओं को कम करने के लिए, डॉक्टर सीजर के माध्यम से मस्तिष्क में अतिरिक्त फ्लूइड या जन्मजात हृदय रोगों जैसे कुछ जन्म दोषों का निदान करने वाले बच्चों को सेजेरियन से जन्म देने का विकल्प चुनते है।

५. एक से ज्यादा बार सिजेरियन –

९०% महिला जिनकी पहले सिजेरियन हुआ है, उनका दुसरी बार भी सिजेरियन ही होता है। दुसरी बार बच्चे को जन्म देते समय गर्भाशय को हानि की संभावना होती है इसीलिए सिजेरियन सुरक्षित उपाय है।

६.पुरानी मेडिकल स्वास्थ्य स्थिति-

यदि किसी महिला को हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, या गर्भकालीन मधुमेह जैसी कुछ पुरानी स्वास्थ्य बीमारी रहती हैं, तो सिजेरियन के माध्यम से डिलिवरी होती हैं। यदि होने वाली माँ को एचआईवी, कैंडीडियासि और, या कोई अन्य संक्रमण है जो योनि प्रसव के माध्यम से बच्चे को स्थानांतरित किया जा सकता है, तो डॉक्टर सिजेरियन का सुझाव देंते है।

७. कॉर्ड प्रोल्यापस-

जब बच्चे के जन्म से पहले गर्भनाल गर्भाशय की सर्विक्स से फिसल जाती है, तो इसे कॉर्ड प्रोलैप्स कहा जाता है। इससे बच्चे में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है, और जिससे बच्चे का स्वास्थ्य खतरे में पड़ सकता है। कॉर्ड प्रोलैप्स एक दुर्लभ और गंभीर स्थिति है जिसके लिए आपातकालीन सिजेरियन डिलीवरी की आवश्यकता होती है.

८.सेफलोपेल्विक अनुपात (सीपीडी)-

सीपीडी तब होता है जब होने वाली माँ पेल्विक योनि से बच्चे को जन्म देने के लिए बहुत छोटा होता है, या यदि बच्चे का सिर सर्विक्स के लिए बहुत बड़ा होता है। किसी भी मामले में, बच्चा योनि से सुरक्षित रूप से बाहर नहीं आ सकता है। तब सिझरीयन होता है.

९.प्लेसेंटा के समस्या-

डॉक्टर तब सिजेरियन करते है, जब निचले स्तर का प्लेसेंटा आंशिक रूप से या पूरी तरह से गर्भाशय के सर्विक्स (प्लेसेंटा प्रीविया) को कवर कर लेता है। सिजेरियन तब भी आवश्यक है जब प्लेसेंटा गर्भाशय की परत से अलग हो जाता है, जिससे बच्चे को ऑक्सीजन (प्लेसेंटा एब्डॉमिनल) की कमी हो जाती है।

१०. एक से अधिक बच्चे-

गर्भावस्था के दौरान ट्विंस या ट्रिप्लेट मतलब एक से अधिक बच्चे होना जोखिम पैदा कर सकता है। यह लंबे समय तक प्रसव का श्कारण बनता है, जो माँ को संकट में डाल सकता है। एक या अधिक बच्चे भी असामान्य स्थिति में हो सकते हैं। सिजेरियन डिलीवरी अक्सर ऐसे मामलो में सबसे सुरक्षित मार्ग होता है।

आशा करते है आज की जाणकारी आपको फायदेमंद साबित होगी ओर जाणकारी ओर सुझाव के लिये कॉमेंट करे.

धन्यवाद !

 

 

 

 

 

 

 

 

 

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article