क्या पीरियड में व्रत रखना चाहिए या नहीं ?

आज हम महिलाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण विषय के बारे में बात करने वाले हैं, अक्सर कई महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान फास्ट यानिकी पीरियड में व्रत रखना चाहिए या नहीं ? इस विषय के बारे में संकोच होता है |

भारतवर्ष मैं अलग अलग धर्म है और हर एक धर्म में अलग-अलग प्रकार के देवी देवताओं की पूजन और व्रत रखा जाता है | हर समुदाय के लोग अपना अपना त्यौहार अच्छे से मनाना चाहते हैं, लेकिन महिलाओं के जीवन में हर महीने मासिक धर्म आता रहता है और इसी के कारण उन्हें अक्सर बहुत सारे त्योहारों से दूर रहना पड़ता है |

इसलिए कई बार महिलाओं के मन में यह सवाल रह जाता है कि, क्या पीरियड में फास्ट करना चाहिए ? मासिक धर्म के दौरान व्रत रखना चाहिए या नहीं ? | सबसे पहले आपको यह जान लेना चाहिए कि,

व्रत क्यों रखा जाता है ?

देखा जाए तो उपवास करने के पीछे मेडिकल और अध्यात्मिक कारण भी है | मेडिकल कारण में ऐसा माना गया है कि, व्रत करने से हमारे शरीर में शांति मिलती है, क्योंकि व्रत के समय हम 7 से 8 घंटे कुछ नहीं खाते हैं और साथ में व्रत के दौरान हम चटपटीत खाने से दूर रहते हैं | जैसे कि नवरात्रि के दिनों में महिलाएं 7 से 8 दिनों के लिए फास्ट रखती है और इसी फास्ट के दौरान में चटपटीत खाने से दूर रहना पड़ता है और इसी वजह से उनका शरीर स्वस्थ रहता है |

व्रत रखने का धार्मिक कारण देखा जाए तो, व्रत रखने से भगवान खुश होते हैं ऐसा कई लोगों का मानना है, इसीलिए वह अपने भगवान के लिए कुछ त्याग देने के लिए व्रत रखते हैं |

See also  पीरियड में काला खून निकलना मतलब क्या है ? जानिए इलाज

क्या औरत ने मासिक धर्म के दौरान नवरात्रि का व्रत रखना चाहिए ?

हिन्दू धर्म में नवरात्रि के समय 8 से 9 दिन तक महिलाएं कुछ नहीं खाती है और इस दौरान वह फलों का सेवन करती है | मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को कमजोरी आना, थकान महसूस होना, चक्कर आने की समस्या होना और भूख लगना ऐसी समस्याएं होती है | यदि पीरियड्स के दिनों में आपने व्रत रख लिया तो, आपको इन सारी समस्याओं से जूझना पड़ता है और इसकी वजह से आपको बीपी कम होने की समस्या होती है |

मासिक धर्म के दौरान महिलाओं का मूड बदलता रहता है और आमतौर उन्हें चिड़चिड़ापन महसूस होता है |

इसलिए महिलाओं को पीरियड्स के दौरान व्रत नहीं रखना चाहिए ऐसा माना गया है |

पीरियड में एक-दो दिन व्रत रख सकते हैं :

जैसे कि हमने आपको पहले ही बताया मासिक धर्म के दौरान 8 से 9 दिन व्रत नवरात्रि में रखने से लो बीपी की समस्या हो सकती है |

लेकिन आप फिर भी व्रत करना चाहती है तब आप पीरियड्स के दौरान एक या 2 दिन का व्रत रख सकती है, इससे आपको कोई परेशानी या नहीं होगी | व्रत के दौरान आप पीरियड में दूध पी सकती है और फलों का सेवन कर सकती है | लेकिन फिर भी आपको पीरियड में १ या २ दिन से अधिक व्रत रखने का मन हो रहा है तब आपको डॉक्टर की सलाह से ही व्रत रखना चाहिए |

पीरियड में व्रत रखने की वजह से महिलाओं के शरीर में प्रोटीन की मात्रा बहुत कम होती है और यदि महिला के शरीर में प्रोटीन अच्छे से नहीं मिला तब इस प्रोटीन की वजह से महिला की मौत भी हो सकती है और ऐसा कई सारी महिलाओं में पाया भी गया है | इसीलिए जितना हो सके उतना आपको मासिक धर्म के दौरान अपने शरीर को संतुलित रखना जरूरी होता है |

See also  पीरियड के पहले सफेद पानी क्यों निकलता है ? जानिए

मासिक धर्म के दौरान क्या सावधानियां बरतें

Leave a Comment

error: Content is protected !!