घर का मुख्य द्वार वास्तु शास्त्र अनुसार कैसा होना चाहिए Vastu For Main Door

नमस्कार दोस्तों । फ्री सिंपलीफाइड इंफॉर्मेशन वेबसाइट में आप सभी का हम स्वागत करते हैं । आज हम आपको हमारे इस आर्टिकल में घर का मुख्य द्वार वास्तु शास्त्र अनुसार कैसा होना चाहिए इसके बारे में जानकारी बताने वाले हैं । दोस्तों घर का मेन गेट घर में एंट्री लेने के लिए और घर से बाहर निकलने के लिए होता है । आप जब बाहरी दुनिया से अपने घर में प्रवेश करते हैं तो इसी दरवाजे के जरिए प्रवेश करते हैं और इसीलिए घर के दरवाजे को मुख्य द्वार कहा जाता है ।

दोस्तों हमारे घर का मेन डोर हमारे घर की हिफाजत करता है । हम जब कहीं बाहर जाते हैं तो घर के बेडरूम के दरवाजे किचन का कोई दरवाजा बंद हो या ना हो लेकिन हमारा मेन डोर अवश्य लॉक करके जाते हैं । दोस्तों घर का कोई सदस्य हो या घर पर आने वाले गेस्ट सभी मुख्य द्वार के जरिए घर में प्रवेश करते हैं इसीलिए मुख्य द्वार का हमारे घर के लिए बहुत महत्वता का होता है । दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं कि वास्तु शास्त्र उतना ही महत्वता का है जितना कि हमारा घर । दोस्तों वास्तु शास्त्र से यदि आप अपने घर का डिजाइन करते हैं तो आपके घर में खुशियां बनी रहती है और एक सकारात्मक विचारों से आपका जीवन हरा भरा रहता है । आज हम आपको वास्तु शास्त्र अनुसार घर का मुख्य दरवाजा कैसा होना चाहिए इससे जुड़ी जानकारी बताएंगे ।

दोस्तों कई बार ऐसे देखने को मिलता है कि घर में सब कुछ होने के बावजूद घर के सदस्यों के बीच में मतभेद होते हैं, घर की परेशानियां कम होने का नाम नहीं लेती है, या फिर घर में बीमारी का आना जाना लगा रहता है । दोस्तों यह सब चीजें घर के वास्तु दोष के कारण हो सकता है और यदि आप घर का वास्तु दोष का निवारण करें तो इन परेशानियों से आप मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं । वास्तु एक ऐसी विद्या है जिसके चलते आपके जीवन में सुख शांति और समृद्धि हासिल हो सकती है । आज हम आपको वास्तु शास्त्र अनुसार घर का मेन डोर कैसा होना चाहिए इसके बारे में बताने वाले हैं । तो चलिए दोस्तों जानते हैं वास्तु शास्त्र अनुसार घर का मुख्य दरवाजा कैसा होना चाहिए ।

Table of Contents

घर का मुख्य द्वार वास्तु शास्त्र अनुसार कैसा होना चाहिए Home Main Door As per Vastu Shastra in Hindi :

वास्तु शास्त्र अनुसार घर का मुख्य द्वार किस दिशा में होना चाहिए Direction of Main Door according to Vastu :

वास्तु शास्त्र अनुसार घर का मुख्य द्वार ईस्ट नॉर्थ ईस्ट या नॉर्थ दिशा में होना चाहिए । वास्तु शास्त्र अनुसार यह दिशा घर के लिए बहुत शुभ मानी जाती है और क्योंकि इन दिशाओं से आप सूर्य को उगते देख सकते हैं जिससे आपके घर में सूर्य की किरणों से आपके घर में दिन की नई शुरुआत हो सकती हैं और घर में पॉजिटिव एनर्जी आ सकती है । किसी घर का मुख्य दरवाजे को इन दिशाओं में स्थान देना चाहिए ।

वास्तु शास्त्र अनुसार घर का मुख्य दरवाजा किस लकड़ी का बना होना चाहिए What material is Best For Main Door as per Vastu ?

दोस्तों घर का मेन डोर बेस्ट क्वालिटी मटेरियल का होना चाहिए और मजबूत रहना चाहिए । वास्तु मुताबिक घर का मेन दरवाजा ऐसे लकड़ी का होना चाहिए जिस पर कभी पानी, बेड बग्स या उधइ जैसी चीजों का असर ना हो सके । यदि आपको मेन डोर मजबूत बनाना है तो आपको शाक के लकड़े का या फिर टीक वूड का इस्तेमाल करना चाहिए । यह मटेरियल घर के मुख्य दरवाजे के लिए बेस्ट माना जाता है । इसीलिए आप घर के मुख्य दरवाजे को जब भी बनाएं तो इन लकड़ी से ही बनाना चाहिए ।

वास्तु शास्त्र अनुसार घर के मुख्य दरवाजे कितने होने चाहिए How many Main Doors should Home have as per Vastu ?

आमतौर पर घर का मेन डोर एक ही होता है लेकिन उसके साथ जुड़ा हुआ और एक दरवाजा होता है जिसे हम अंदर की ओर खींचते हैं । और दूसरा दरवाजा बाहर की ओर खुलता है । मेन डोर घर के अंदर खुलने वाला दरवाजा होता है । जो दरवाजा बाहर की ओर खुलता है वह सेफ्टी डोर कहलाता है । इसी कारण घर में मुख्य दरवाजा एक ही होना चाहिए । ऐक बात का आपको अवश्य ख्याल रखना चाहिए कि आप जब भी मेंन डोर बनाए तो वह घर के अंदर की ओर खुलना चाहिए ना कि बाहर की दिशा में खुलना चाहिए ।

See also  सपने में चीकू देखना इसका मतलब क्या है? Chiku in Dream Meaning

वास्तु शास्त्र अनुसार घर के दरवाजे की साइज क्या होनी चाहिए Ghar ke Main door ka Size Kya Hona Chhiye ?

दोस्तों जब भी आप घर के मुख्य दरवाजे को बनाते हैं तो इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि वास्तु शास्त्र अनुसार आपके घर का मुख्य द्वार अन्य दरवाजों के साइज अनुसार बड़ा होना चाहिए । घर के कोई दरवाजे आप के मुख्य द्वार से बड़े नहीं होने चाहिए । 

वास्तु शास्त्र अनुसार घर के मुख्य दरवाजे का कलर क्या होना चाहिए Vastu Shastra Anusar Ghar ke Darwaje ka Rang Kya hona Chahiye ?

दोस्तों जब इंटीरियर और कलर की बात आती है तो लोग अक्सर जल्दबाजी में अपने मनपसंद कलर्स को बिना सोचे समझे अपने घर के मुख्य द्वार पर कर देते हैं । लेकिन आपको यह गलती नहीं करनी चाहिए । हमें दरवाजे के मनचाहे रंगों से कुछ पल की खुशियां अवश्य मिलती हैं लेकिन समय दरमियां वे रंग नेगेटिव एनर्जी ऐमिट करते हैं जिसके चलते आपके घर में नेगेटिविटी बढ़ती है और घर की खुशियों पर नजर लग सकती है । घर की खुशियों को बनाए रखने के लिए और घर का वातावरण शुद्ध रखने के लिए आपको घर के मुख्य द्वार को वास्तु शास्त्र अनुसार रंगना चाहिए ।

आपके घर का मुख्य दरवाजा किस दिशा में है उस अनुसार हमने वास्तु शास्त्र अनुसार घर के दरवाजे को कौन सा रंग लगाना चाहिए उसकी जानकारी नीचे बताई है ।

  • यदि आपके घर का मुख्य दरवाजा उत्तर दिशा में खुलता है तो मुख्य दरवाजा सफेद या भूरे रंग का होना चाहिए । ध्यान रहे कि यह दोनों ही रंग लाइट होने चाहिए और ज्यादा ब्राइट करने की आवश्यकता नहीं है ।
  • दक्षिण दिशा में मुख्य द्वार होने पर आपको मुख्य द्वार के काले रंग से अथवा हरे रंग से रंगना चाहिए । ऐसा करने से बाहरी दुनिया की नेगेटिविटी आपके घर में प्रवेश नहीं कर पाएगी । और आपके घर में एक अच्छा माहौल बना रहेगा ।
  • मुख्य दरवाजा यदि पूर्व की दिशा में है तो आपको घर के मेन डोर को हरा अथवा लाल रंग लगा सकते हैं । ऐसा करने से आपके घर में पॉजिटिविटी बढ़ेगी ।
  • पश्चिम दिशा में मैन डोर होने पर आपको अपने मैन डोर को ग्रे रंग या फिर सफेद रंग से पेंट कर सकते हैं । ऐसा करने पर आपके घर में भाव प्रेम भाईचारा बना रहेगा । यह रंग पारिवारिक एकता के लिए शुभ माना जाता है ।
See also  सपने में शादी देखना इसका मतलब क्या है ? Marriage in Dream Meaning

वास्तु शास्त्र अनुसार घर के मुख्य द्वार का डेकोरेशन कैसा होना चाहिए Main Door Decoration as per Vastu :

दोस्तों वास्तु शास्त्र अनुसार घर के मुख्य द्वार को डेकोरेट करने के लिए तोरण का इस्तेमाल कर सकते हैं । घर के मेन डोर के बाहर छोटे-छोटे फूलों के पौधे लगा सकते हैं । याद रहे लेकिन कोई पौधा मुरझाया हुआ नहीं होना चाहिए । साथ ही मेन डोर के आसपास कभी पानी का नल नहीं होना चाहिए । इसके अलावा आप घर के दरवाजे पर विभिन्न रंगों की रंगोली भी बना सकते हैं । ऐसा करने पर लक्ष्मी मां आप पर प्रसन्न हो सकती है और आपके घर प्रवेश कर सकती है ।

वास्तु शास्त्र अनुसार घर की डोर बेल कैसी होनी चाहिए Door bell as per Vastu Shastra :

वास्तु शास्त्र अनुसार घर की डोर बेल घर के मुख्य दरवाजे के नजदीक होनी चाहिए और जमीन से 4 से 5 फुट ऊपर होनी चाहिए । घर की डोर बेल हमेशा चालू रखना चाहिए और डोर बेल की आवाज मधुर और सुनने में हल्की होनी चाहिए । जोर से बजने वाली या फिर जिसे सुनकर सिर दर्द हो, ऐसी डोर बेल नहीं होनी चाहिए ।

घर के मुख्य द्वार की वास्तु शास्त्र अनुसार अन्य जानकारी Vastu For Main Door at Home Tips in Hindi :

  • घर का मुख्य द्वार कभी खंडित नहीं होना चाहिए और होने पर उसे फौरन रिपेयर करा लेना चाहिए ।
  • मुख्य द्वार हमेशा घर के अंदर के दिशा में खुलना चाहिए ।
  • घर के मेन गेट के सामने कभी शीशा नहीं लगाना चाहिए ।
  • घर का मेन डोर हमेशा क्लॉकवाइज यानी कि घड़ियाल के कांटो के दिशा में खुलना चाहिए । एंटी क्लॉक वाइज या घड़ियाल के कांटो के उल्टी दिशा में दरवाजे का खुल्ला वास्तु दोष कहलाता है ।
  • आप के मुख्य दरवाजे का फेसिंग कभी सीढ़ियों को या लिफ्ट को फेस नहीं करना चाहिए ।
  • घर के मेन दरवाजे के लिए स्लाइडिंग डोर नहीं कराना चाहिए ।
  • आपको अपने घर का मेन दरवाजा हमेशा साफ रखना चाहिए और धूल मिट्टी दरवाजे पर लगने पर उसे फौरन साफ करना चाहिए ।

वास्तु शास्त्र अनुसार किचन कैसा होना चाहिए Vastu For Kitchen in Hindi

Leave a Comment

error: Content is protected !!