Wednesday, September 28, 2022

भारत किसको बिजली निर्यात करता है?

जरुर पढ़े

नमस्कार दोस्तों, कैसे है आप? इस लेख का नाम पढ़कर आपको भी झटका लगा होगा ना?

भारत में कई सरे गांव या शहरों में बहोत बार बिजली नहीं होती है। फिर भी भारत किसको बिजली निर्यात करता है? और खुद के देश को बिजली नहीं होने के बावजूद भारत दूसरे देशो को बिजली कैसे दे सकता है?

भारत क्यों देता है दूसरे देशो को बिजली?

भारत में कई सरे बिजली उप्पाद करने वाले क्षेत्र है। जिनमें से कुछ बहोत ही दूर दराज़ भागो में बनाए गए है। जहा पर भारत को बिजली बनाने में काम खर्च आता है। और इन इलाको में बहोत ही कम जनसंख्या होने के कारन काफी सारि बिजली बच जाती है।

बिजली को एक जगह से दूसरे जगह पोहचाने के लिए भी खर्च आता है। तोह जब ऐसे इलाको में बिजली बच जाती है। तोह भारत उस बिजली को उत्पादन क्षेत्र से नजदीक जो भी देश होते है, उनको वह बिजली बेच कर देश के लिए ज्यादा मुनाफा कमाता है।

इस मुनाफे से भारत अलग अलग राज्यों में बिजली उत्पादन क्षेत्र बनता है।

भारत किसको बिजली निर्यात करता है?

वर्तमान में, भारत नेपाल, बांग्लादेश और म्यांमार को बिजली का निर्यात करता है, जबकि भारत भूटान से बिजली का आयात करता है। हालांकि, कभी-कभी भारत कमजोर पनबिजली मौसम के दौरान भूटान को बिजली का निर्यात भी करता है।

भारत ने अन्य बातों के साथ-साथ इन पड़ोसी देशों के साथ बिजली संपर्क में सुधार के लिए भूटान, बांग्लादेश, नेपाल और म्यांमार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। विद्युत मंत्रालय ने 05.12.2016 को बिजली के सीमा पार व्यापार पर दिशानिर्देश जारी किए, जिसे बाद में सीमा पार व्यापार को बढ़ावा देने के लिए 18.12.2018 को जारी ‘बिजली के आयात/निर्यात (पार सीमा) के लिए दिशानिर्देश-2018’ द्वारा प्रतिस्थापित किया गया। पड़ोसी देशों के साथ बिजली की। केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग (सीईआरसी) ने 8 मार्च 2019 को सीईआरसी (विद्युत का सीमा पार व्यापार) विनियम, 2019 जारी किया।

इसके अलावा, पड़ोसी देशों के साथ बिजली संपर्क में सुधार के लिए, निम्नलिखित इंटरकनेक्शन कार्यान्वयन के विभिन्न चरणों में हैं: –

  • मुजफ्फरपुर (भारत) का 400kV संचालन – ढलकेबार (नेपाल) 400kV D/c लाइन (220kV पर संचालित)
  • बहरामपुर (भारत)-भेरामारा (बांग्लादेश) दूसरी 400kV डी/सी लाइन
  • अलीपुरद्वार (भारत) – जिग्मेलिंग (भूटान) 400kV डी/सी (क्वाड) लाइन
  • गोरखपुर (भारत) – न्यू बुटवल (नेपाल) 400kV डी/सी (क्वाड) लाइन
  • सीतामढ़ी (भारत) – ढलकेबार (नेपाल) – अरुण -3 एचईपी (नेपाल) 400kV डी/सी (क्वाड) लाइन

नेपाल और बांग्लादेश दो देशों के बीच बिजली का व्यापार करने के लिए भारतीय ट्रांसमिशन ग्रिड का उपयोग नहीं कर रहे हैं।

नेपाल, भूटान और बांग्लादेश सहित पड़ोसी देशों के साथ बिजली के आयात/निर्यात के लिए व्यापार व्यवस्था से बिजली में क्षेत्रीय व्यापार की सुविधा होगी और संबंधित देशों में बिजली की आवश्यकता को पूरा करने में मदद मिलेगी जिससे क्षेत्र में अधिक ऊर्जा सुरक्षा की ओर बढ़ रहा है।

भारत किसको बिजली निर्यात करता है? - India Export Electricity
भारत किसको बिजली निर्यात करता है? – India Export Electricity

भारत में पहले से ही उच्च वोल्टेज सिंक्रोनस (अल्टरनेटिंग करंट) और एसिंक्रोनस (हाई वोल्टेज डायरेक्ट करंट) कनेक्शन के माध्यम से बांग्लादेश, भूटान और नेपाल के साथ क्षेत्रीय बिजली प्रणाली एकीकरण है। उन्नत राष्ट्रों की सर्वोत्तम प्रथाओं से सीखते हुए, नवीनतम तकनीकों जैसे स्टेटकॉम, वोल्टेज स्रोत कनवर्टर आधारित एचवीडीसी प्रणाली, आदि को क्षेत्रीय पड़ोसी देशों के बीच विश्वसनीयता के साथ बिजली हस्तांतरण की सुविधा के लिए सुधार के निरंतर उपाय के रूप में भारतीय ग्रिड में तैनात किया गया है।

यह जानकारी श्री आर.के. सिंह, विद्युत, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और कौशल विकास और उद्यमिता राज्य मंत्री ने आज लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में दिया।

हमने जो जानकारी प्रदान करने की कोशिश की है। वह आपको कैसी लगाई हमें जरूर बताइये।

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

error: Content is protected !!