Friday, July 1, 2022

अभी मेरे दिमाग में क्या चल रहा है? dimag me kya chal raha hai

जरुर पढ़े

नमस्कार दोस्तों स्वागत है; आपका हमारे फ्री सिंपलीफाइड इंफॉर्मेशन की वेबसाइट पर और आज का हमारा विषय है अभी मेरे दिमाग में क्या चल रहा है? दोस्तों हो सकता है,कि इस विषय के बारे में सुनने के बाद आप हमें बोल रहे होंगे कि यह क्या बेवकूफी भरा सवाल आज लेकर आए हैं। लेकिन दोस्तों यह काफी गंभीर और इंटरेस्टिंग विषय है, जिसके बारे में आज आपको जानना जरूरी है। दोस्तों अभी मेरे दिमाग में क्या चल रहा है? यह विषय आपके साइकोलॉजी से जुड़ा हुआ है। आज के भागदौड़ भरे जमाने में लोग अधिक मेहनत करके भागदौड़ करके अपना रोजाना कामकाज कर रहे हैं, और फैमिली संभाल रहे हैं। लेकिन इस दौरान उनके दिमाग में अक्सर चिंता सताती रहती है, और यह चिंता उन लोगों के शारीरिक स्वास्थ्य को बिगाड़ते जा रही है।

तो दोस्तों आज हम अभी मेरे दिमाग में क्या चल रहा है? विषय में यही जानकारी देने वाले हैं, कि सायकोलॉजी का अभ्यास क्या होता है कैसे किसी इंसान के दिमाग में क्या चल रहा है, यह आप जान सकते हैं। अगर सामने वाले इंसान के दिमाग में किसी प्रकार का टेंशन हो चिंता हो या फिर किसी चीज का दुख हो किसी चीज का पश्चाताप हो तो वह आप जानकर उस व्यक्ति की मदद कर सकते हैं। कई कई वैज्ञानिकों के रिसर्च में यही पाया गया है, कि लोग अक्सर अपने दिमाग में क्या चल रहा है,यह चीज ही नहीं पहचान पाते हैं; जिसका असर सीधा उनके शारीरिक स्वास्थ्य पर होता है।और वह लोग दिन-ब-दिन किसी ना किसी बड़ी से छोटी बीमारी से ग्रस्त होते जा रहे हैं।

क्योंकि दोस्तों लोगों ने आज पैसे को ही सबसे अधिक महत्व दे रखा है जिसे कमाने के पीछे लोग रात दिन मेहनत कर रहे हैं। अधिक काम करने से उसका सीधा असर दिमाग पर पड़ता है। और अगर आपको दिमागी शांति यानी कि मेंटल पीस अगर आपके लाइफ में नहीं है तो आप ने कमाया हुआ पैसा भी किसी काम का नहीं होता है। तो आज हम आपको दिमाग के साइकोलॉजी के बारे में बताने वाले हैं,तो सबसे पहले आइए जान लेते हैं, कि दिमाग होता क्या है?

दिमाग क्या है Dimag kya Hai :

दोस्तों दिमाग को अंग्रेजी में ब्रेन कहते हैं। दिमागी और शारीरिक अंग है, जिसे हम छू सकते हैं और देख सकते हैं ।यह इंसान के ऊपरी भाग यानी की खोपड़ी के भीतर रहता है। दिमाग यह शरीर के सभी प्रकार की नब्जों से जुड़ा हुआ होता है, दिमाग के भीतर करोड़ों नब्ज होती है, और करोड़ों लोगों के कनेक्शन होते हैं,यानी कि हर एक नब्ज़ एक दूसरी नब्ज से जुड़ी हुई होती है।

दिमाग का कुल वजन 1.3 किलोग्राम होता है। दोस्तों दिमाग की सोचने की रफ्तार यह 428 किलोमीटर प्रति घंटा होती है। यानी कि अगर आप आपके हाथ को छोटी सी खरोच भी करते हैं तो वह तुरंत कुछ ही मिली सेकंड में आपके दिमाग तक चली जाती है। और आपको चोट लगने का एहसास होता है। दिमाग जब काम करता है तो वह 23 वाट बिजली उत्पादन करने की क्षमता के बराबर अपनी पावर पैदा करता है। और भी कई सारी जानकारी दिमाग से जुड़ी हुई है लेकिन अगर हम उस जानकारी को बताने यहां बैठे हैं तो कई दिन निकल जाएंगे इसलिए दिमाग से जुड़ी हुई महत्वपूर्ण बातें हमने आपको इस लेख में बताइ है।

दोस्तों हमारे दिमाग के पास अनलिमिटेड अनगिनत वर्चुअल मेमोरी है, यानी कि हम कई सारी बातें याददाश्त दिमाग में स्टोर कर सकते हैं। जिसको कोई भी नापतोल नहीं कर सकता है।

मन यानी कि क्या Mann Kya hai :

दोस्तों जैसे दिमाग होता है जिसे हम ब्रेन कहते हैं ठीक उसी प्रकार मन को हम माइंड कहते है। दिमाग और मन यह एक दूसरे से जुड़ा हुआ होता है, और हमारे शरीर इन दोनों चीजों से ही चलता है। मन यह एक वैचारिक दृष्टिकोण है,इसे ना ही हम देख पाते हैं ना ही हात लगा पाते हैं। दोस्तों हमारे मन के भीतर यानी कि माइंड के अंदर हम इमोशनल सेंटीमेंट से जुड़े हुए होते हैं, जैसे कि दुख सुख हंसी खुशी यह पल हम मानसिक रूप से करते हैं। और यह मन हमारे दिमाग को संकेत देता है और दिमाग हमारे शरीर के हर एक अंग को विशिष्ट प्रकार के संकेत देता है, जैसे कि आपको अगर किसी प्रकार की मानसिक खुशी हुई हो तो आपका मन आपके दिमाग को उस प्रकार का संकेत देगा और आपका दिमाग आपके चेहरे के ऊपर जितने भी अंग है, उन सभी को संकेत देगा और आपका चेहरा खिलखिला उठेगा। और यह क्रिया कुछ ही पलों में होती है।

दिमाग में क्या चल रहा है कैसे जाने Dimag Me Kya Chal Raha Hai kaise Jane:

दोस्तों सबसे पहले बेसिक चीज यही है, अगर आपको सामने वाले इंसान के दिमाग में क्या चल रहा है इसके बारे में समझना है। तो आपको साइकोलॉजी का अभ्यास करना पड़ेगा। जिसमें आपको पड़ा है, जाता है दिमाग के बारे में और वह कैसा काम करता है कैसे आप किसी इंसान के दिमाग में क्या चल रहा है,इसके बारे में पता कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर हम आपको बताना चाहते हैं; तो हां आप सामने वाले इंसान के चेहरे के हाव भाव उसका शारीरिक स्वभाव को मध्य नजर रखते हुए उसके दिमाग के भीतर क्या चल रहा है,इसका अनुमान लगा सकते हैं।

जैसे की अगर कोई लड़का या लड़की मोबाइल में चैटिंग कर रहे हैं और वह काफी मन ही मन हंस रहे हैं। तो आप उनके चेहरे की खुशी देखकर यही अंदाजा लगा सकते हैं। कि उनके साथ किसी प्रकार की अच्छी चीज हुई जिसको देखकर वह लोग काफी खुश है,और वह अपने जीवन में काफी उत्साहित है। यानी कि सामने वाला इंसान खुशी में है और आप उसी से अगर किसी चीज की मांग करते हैं, वह व्यक्ति को वह चीज पॉसिबल होगी तो वह कर देगा। 

और दूसरा उदाहरण देखा जाए तो मान लीजिए आपके सामने वाला इंसान आपको काफी समय से घूर रहा है,आपके पूरे शरीर का ऑब्जरवेशन कर रहा है,और उसके चेहरे पर गुस्सा है तो आप यही मान लो कि उसके दिमाग में ऐसी किसी चीज का ख्याल चल रहा है। जो चीज करने के बाद वह आपके लिए खतरनाक बन सकती है। या फिर आपकी कोई चीज सामने वाले को अजीब लग रही हो तो उसे थोड़ा सा गुस्सा आ सकता है, और वह आपके बारे में यह सोच सकता है कि कैसा इंसान है। किस प्रकार के कपड़े जूते या किस प्रकार का स्वभाव है, और वह मन ही मन गुस्सा हो रहा हो ।यह एक बेसिक जरिया है जिसके बदौलत आप सामने वाले इंसान के दिमाग में क्या चल रहा है,यह पढ़ सकते हैं।

दिमाग में क्या चल रहा है, यह जानने के लिए दूसरा जरिया यह है। कि आप किसी और को हिप्नोटाइज करके उसके दिमाग के भीतर क्या चल रहा है, इसके बारे में जान सकते हैं। और दोस्तों हिप्नोटाइज करना यह स्पेशलिस्ट का काम होता है, जिसमें किसी इंसान को इतना टाइप करके एक अलग ही दुनिया में ले जाया जा सकता है। यानी कि आपको किसी चीज के बारे में इमेजिंग करने के लिए बोला जाएगा जैसे कि अगर आप भारत में बैठे हो और आपको बोला जाए कि आप जर्मनी में घूम रहे हो वहां की ऊंची ऊंची बिल्डिंग ए आप देख रहे हो आपके सामने एक सीधी सड़क है। जहां पर काफी सारी गाड़ियों का आना-जाना चल रहा है, आपके इर्द-गिर्द लोगों की भीड़ है। तो थोड़े समय बाद आपको सचमुच में यही एहसास होगा कि आप जर्मनी में घूम रहे हैं और आप वहां का जीवन देख रहे हैं। यह इमैजिनेशन पावर को बढ़ावा देता है। और इसमें से बाहर लाने की भी एक अलग प्रोसेस होती है, इसीलिए यह चीज किसी भी इंसान को करना नहीं चाहिए।

गूगल के पास कितना दिमाग है Google ke Pas kitna Dimag Hai :

दोस्तों अभी तक हमने इंसान के दिमाग के बारे में बातचीत की है जो कि काफी अनोखा है। लेकिन हम अभी गूगल के बारे में बात करने वाले। आज के एडवांस टेक्नोलॉजी के जमाने में गूगल के पास सब मिल जाता है लोग इसे कहते हैं। तो आखिर गूगल काम कैसे करता है इसके बारे में हम बताने वाले हैं दोस्तों गूगल यह एक वर्चुअल प्लेटफार्म है,जिसमें आप किसी भी चीज को खोज सकते हैं। किसी भी इंसान की किसी भी देश की किसी भी काम की जानकारी आप देख सकते हैं,सुन सकते हैं, और पढ़ सकते हैं। जैसे कि यह जानकारी आप अभी भी गूगल के जरिए पढ़ रहे हैं। गूगल के पास भी काफी बड़ी मेमोरी है, जिसके भीतर बहुत जानकारी समाई हुई होती है।और वह आप 5 साल बाद 10 साल बाद 50 साल बाद भी देख सकते हैं पढ़ सकते हैं सुन सकते है। यह जानकारी लोग गूगल के मेमोरी में डालते हैं, जैसे कि हम लोग यह आर्टिकल आज लिख रहे हैं। तो यह आर्टिकल आप 50 साल बाद भी देख सकोगे क्योंकि यह आर्टिकल हम गूगल पर डाल रहे हैं,और गूगल इसको अपने मेमोरी में सेव कर लेगा जो कि आपको सालों साल दिखाई देगा।

क्या गूगल बता सकता है आपके दिमाग में क्या चल रहा है Google Aapke dimage ke bare me bata sakta hai kya :

दोस्तों अगर आप यह सवाल गूगल से पूछोगे तो गूगल एक साधारण सा उत्तर आपको देगा कि आपके दिमाग में अभी गाने सुनने के बारे में चल रहा है,या फिर आपके दिमाग में अभी चुटकुला सुनने का विचार चल रहा है,ठीक इसी प्रकार। लेकिन अभी तक गूगल ने ऐसी तकनीक निकाली नहीं है जो इंसान के दिमाग को पढ़ पाए। लेकिन गूगल की टीम इस चीज पर काम कर रही है और वह लोग दिन-ब-दिन इस चीज में सफल होते जा रहे हैं। जल्द ही गूगल ऐसी तकनीक लाएगा जिसमें इंसान के दिमाग में किस प्रकार के विचार चल रहे हैं,और इंसान क्या करना चाह रहा है, इसके बारे में पता लगा सकते है।

और यह तकनीक गूगल फिलहाल उन्हीं लोगों के लिए कर रहा है जो लोग गूंगे है बोल नहीं पाते हैं। तो उनका दिमाग पढ़कर गूगल यह जान पाएगा कि उनके दिमाग में क्या चल रहा है यानी वह इंसान क्या करना चाहते हैं, ताकि उनके परिवार को उनके दोस्तों को उनके विचारों के बारे में पता चले।

हिप्नोटाइज करने पर क्या होता है Hypnotize karne Par kya Hota hai :

दोस्तों हिप्नोटाइज यह एक साइकोलॉजि अभ्यास है। इसमें दिमाग पर कंट्रोल पाया जा सकता है,यानी कि आप दिमाग को जो भी आदेश देंगे वह दिमाग मानेगा जैसे हमने ऊपर की जानकारी में आपको जर्मनी का उदाहरण दिया है। अगर आपने वह टॉपिक नहीं पड़ा तो उसे कृपया पढ़ ले।

दोस्तों हम आपको सीधी भाषा में सरल उत्तर देते हैं कि इतना टाइप करने पर दिमाग यह इमैजिनेशन की दुनिया में चला जाता है, इसे और भी आसान शब्दों में कहा जाए तो यह विचारों की दुनिया कहलाती है। यानी कि आप जो कुछ भी विचार कर रहे हो जैसे आपको कहीं पहाड़ों पर घूमना है और आप शांति पूर्वक बैठकर उसी चीज के बारे में सोच रहे हो या फिर कोई इंसान आपके दिमाग में वह चीज डाल रहा है, तो आप आपके इमैजिनेशन पावर के जरिए पहाड़ों को महसूस करेंगे खुद को उस जगह पर महसूस करेंगे। तो यह हिप्नोटाइज के जरिए किया जा सकता है।

तो दोस्तों आज के लिए दिमाग के बारे में इतनी जानकारी काफी है,और जानकारी लेने के लिए हम लोग आपके लिए नए-नए आर्टिकल्स लेकर आ रहे हैं। जिनको पढ़ने के लिए जुड़े रहिए हमारे फ्री सिंपलीफाइड इंफॉर्मेशन की वेबसाइट पर जहां पर आपको हर चीज के बारे में जानकारी प्राप्त होंगी। धन्यवाद।

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

error: Content is protected !!